A leading caste in Bihar & Jharkhand

Uttar Pradesh Police 49568 Vacancies Recruitment Process Begins

Class 12 pass candidates who wish to join police force can apply for Police Constable recruitment under Uttar Pradesh Police November 19, 2018 onwards. Online registration against 49568 vacancies can be done till December 8, 2018 at the official website of Uttar Pradesh Police Recruitment and Promotion Board (UPPRPB). Candidates shall have to apply online along with fees of Rs. 400. There is no fee relaxation for candidates belonging to reserved categories. Other educational qualification that will be preferred for the recruitment include having NCC Cadet ‘B’ certificate, two years of experience under Territorial Army and DOEACC certificate/ NIELIT ‘O’ certificate.

Click here for details

Candidates will be selected on the basis of an objective test (300 marks) and physical efficiency test. The written examination will have questions from General Knowledge, General Hindi, Quantitative and Mental ability, and Reasoning Ability.

Applicants must be in the age group of 18-22 years.

 

अमर शहीद रामफल मंडल

Panchayat Raj Rural Employment

अमर शहीद रामफल मंडल

अमर शहीद रामफल मंडल जी का जन्म आज के सीतामढ़ी जिला के बाजपट्टी थाणे के अन्दर मधुरापुर गाँव में ६ अगस्त १९२४ को श्री गोखुल मंडल और गरबी मंडल के घर पैदा हुए थे। ऐसा लगता था वे जन्मजात एक पहलवान थे जिसकी वजह से पुरे गाँव में अपने नाम के बजाय पहलवान जी के नाम से जाने जाते थे। इसी वजह से जब पुरे देश में भारत छोड़ो आन्दोलन में हिस्सा लिए थे इसी क्रम में 24 अगस्त 1942 को बाज़पट्टी चौक पर अंग्रेज सरकार के तत्कालीन सीतामढ़ी अनुमंडल अधिकारी हरदीप नारायण सिंह, पुलिस इंस्पेक्टर राममूर्ति झा, हवलदार श्यामलाल सिंह और चपरासी दरबेशी सिंह को गड़ासा से काटकर हत्या की थी क्योंकि उनपर पुरे गाँव को आग में झोंकने का आरोप था।
 
कैद में लेने के बाद अंग्रेजी सरकार ने उन्हें भागलपुर केंद्रीय कारागार भेज दिया जहाँ उनके ऊपर मुकदमा संख्या – 473/42 दर्ज की गयी और भागलपुर केंद्रीय कारागार में जज माननीय सी आर सैनी जी के न्यायलय में सुनवाई शुरू हुई। दिनांक 15 जुलाई को कांग्रेस कमिटी बिहार प्रदेश में रामफल मंडल एवं अन्य के सम्बन्ध में एसडीओ, इंस्पेक्टर एवं अन्य पुलिस कर्मियों की हत्या के आरोपो पर चर्चा की गयी। जिसके फलस्वरूप बिहार प्रदेश कांग्रेस समिति पटना के आग्रह पर गांधी जी ने रामफल मंडल और अन्य आरोपियों के बचाव पक्ष में क्रांतिकारियों का मुकदमा लड़नेवाले देश के जाने माने बंगाल के वकील सी.आर.दास और पी.आर.दास दोनों भाइयों को भागलपुर भेजा। दिनांक 12 अगस्त 1943 को पहली सुनवाई शुरू हुई थी। आखिरी सुनवाई के बाद जज ने फांसी की सजा दी और उनके लिए फाँसी की तिथि – दिनांक 23 अगस्त 1943 मुक़र्रर की जिसको केंद्रीय कारागार भागलपुर में भी दे दी गयी।

Like to share it

Leave a Reply

 

Address

Bihar, Jharkhand, West Bengal, Delhi, Madhya Pradesh, Uttar Pradesh, Haryana, Rajasthan, Gujrat, Punjab, India
Phone: +91 (987) 145-3656

Blog Subscribe

Cookies

About Cookies on this site:
Our site uses cookies and other technologies so that we can remember you and understand how you and other visitors use our site. To see a complete list of the companies that use these cookies and technologies and to tell us whether or not they can be used on your device, access our Cookie Consent Tool available on every page.